शुक्रवार, 30 मार्च 2012

अतिक्रमण का साँप और चालाक सपेरे

जिस प्रकार बरसात के मौसम में साँप अपने बिल से बाहर निकलकर आस-पास के लोगों को डराने की कोशिश करता है और कोई फायदा न देखकर वापस अपने बिल में ही वापस चला जाता है उसी प्रकार महराजगंज में अतिक्रमण हटाने के प्रयास भी पानी वाले साँप के कुतूहल उत्पन्न करने के की कोशिश ही नजर आते हैं। हम सभी जानते हैं कि हमारे कस्बे में अतिक्रमण और जाम की समस्या बड़ी विकट हो गई  है जिसकी वजह से आये दिन परेशानियाँ खड़ी हो जाया करती हैं। कुछ दिन पूर्व नगरपालिका वाले भारी भरकम पुलिस दस्ते के साथ अतिक्रमण करने वालों से जूझते नजर आये औऱ सड़क को उनके नाजायज कब्जे से निजात दिलाया। लेकिन मुहाने को साफ नहीं करा सके। यानि कि जिस चौराहे पर अतिक्रमण हटाने की सबसे ज्यादा जरुरत थी वहाँ कुछ हुआ ही नहीं। तहसील बिल्डिंग, चौराहे की कुछ दुकानों पर बुलडोजर नही चले। फलस्वरूप सड़कों पर कब्जे की दुबारा कोशिश शुरु हो  ही गई।
दिल से निकलगी, ना मरकर भी, वतन की उल्फत मेरी मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आयेगी....।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

नारी का नारकीय जीवन: कारण

सभ्यता के आदिकाल से ही नारी को दोयम दर्जे का नागरिक मााना जाता रहा है। नाना प्रकार के विकास के बावजूद आज इक्कीसवीं सदी के पूर्वार्द्ध में भी...